Tuesday, June 18, 2024

रेलवे जमीन पर ‘अवैध मजार’ हटाने पहुंची पुलिस-पीएसी टीम, मचा हंगामा, सामने आईं महिलाएं, जानें

Must Read

Uttar Pradesh Bareilly News: प्रदेश में अवैध धार्मिक स्थलों को लेकर कार्रवाई चल रही हैं. बरेली के इज्जत नगर रेलवे की जमीन पर भी एक मजार स्थित है. रेलवे का कहना है कि ये मजार अवैध है. इस मजार को हटाने के लिए पुलिस-प्रशासन की टीम पहुंची. मगर पुलिस टीम को खाली हाथ ही लौटना पड़ा. ऐसा दूसरी बार हुआ है जब पुलिस-प्रशासन की टीम इस अवैध मजार को हटाने गई, लेकिन उसे खाली हाथ ही लौटना पड़ा. मिली जानकारी के मुताबिक, मजार हटाने के लिए जैसी ही पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची, वैसे ही ये खबर आग की तरह आस-पास के एरियों में फैल गई. कुछ ही देर में भारी संख्या में महिलाओं और बच्चों की भीड़ जमा हो गई. इस दौरान रेलवे प्रशासन और जिला प्रशासन के भी अधिकारी मौजूद नहीं थे, इसलिए पुलिस टीम कोई एक्शन नहीं ले पाई और उसे लोगों के विरोध के सामने खाली हाथ ही लौटना पड़ा.

रेलवे ने की थी प्रशासन से मजार को हटाने की अपील

मिली जानकारी के मुताबिक, बरेली के इज्जत नगर रेलवे की जमीन पर कई सालों से मजार है. रेलवे का दावा है कि यह मजार अवैध रूप से बनाई गई है और रेलवे की जमीन पर कब्जा किया गया है. रेलवे की तरफ से जिला प्रशासन को इसे हटाने को लेकर एक पत्र लिखा गया था और इस मजार को हटाने की आग्रह किया गया था, जिसके बाद पुलिस कार्रवाई करने आई थी.  पहले भी खाली हाथ लौटी थी टीम

पहले भी खाली हाथ लौटी थी टीम

बता दें कि कुछ दिन पहले भी पुलिस की टीम मजार को हटाने के लिए पहुंची थी. उस दौरान भी लोगों ने पुलिस टीम का भारी विरोध किया था और पुलिस कोई एक्शन नहीं ले पाई थी. उस दौरान भी पुलिस टीम को खाली हाथ लौटना पड़ा था.

पुलिस फोर्स का कर लिया घेराव

बताया जा रहा है कि जैसे ही लोगों को मजार हटाए जाने की सूचना मिली, लोग जमा होने शुरू हो गए. मजार हटाने आई पुलिस और पीएसी फोर्स का लोगों ने घेराव कर लिया, जिसके बाद पुलिस टीम ने अपने कदम वापस ले लिए. शाम तक पुलिस और पीएसी के जवान मौके पर रहे. मगर अवैध मजार नहीं हट सकी. माना जा रहा है कि मौके पर रेलवे प्रशासन के ना होने से पुलिस और पीएसी अवैध मजार पर कार्रवाई नहीं कर पाई. 

बताया जा रहा है कि पुलिस को देख मौके पर सैकड़ों लोग जमा हो गए. महिलाएं अपने घरों से निकल आईं. महिलाएं, बच्चे सभी मजार को तोड़ने का विरोध करने लगे. ये देख पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया और मौके पर फौरन पीएसी बुलाई गई.

धीरे-धीरे हो रहा है मजार का विस्तार

रेलवे अधिकारियों का कहना है कि शुरुआत में यह मजाक बहुत छोटी थी, लेकिन सन् 2005 के बाद से मजार का स्वरूप लगातार बढ़ता चला गया. धीरे-धीरे रेलवे की जमीन पर मजार का अधिकार होता आ रहा है और धीरे-धीरे कब्जा बढ़ता रहा है. 

इस पूरे मामले पर टीटीएस दरगाह आला हजरत महानगर अध्यक्ष बरेली  मोहम्मद आसिफ रजा कहा कि यह मजार काफी समय पुराना है. यह लगभग 100 साल पुरानी है. हम रेलवे से अपील करते हैं कि मजार शरीफ ना हटाया जाए और हम लोगों की भावनाओं को देखकर ही फैसला लिया जाए. दरगाह से एक पैनल गया था. उन्होंने 1 सप्ताह का टाइम दिया था. अधिकारियों ने हमसे कागजात दिखाने के लिए समय दिया है. जो भी संभव होगा, हम वह करेंगे. 

- Advertisement -
0FansLike
- Advertisement -
Latest News

छज्जा गिरने से श्रद्धालुओ की हुई मौत, कई घायल जाने क्या है पूरा मामला…..

मथुरा. बांके बिहारी मंदिर के पास मंगलवार को एक बड़ा हादसा हो गया. जिसमें छज्जा गिरने से करीब 10 श्रद्धालु...

More Articles Like This